• वेस्टइंडीज के बाद पाकिस्तान टीम इंग्लैंड में 3 टेस्ट और 3 टी-20 की सीरीज खेलेगी, सभी खिलाड़ी चार्टर्ड प्लेन से लाए जाएंगे
  • ईसीबी के स्पेशल प्रोजेक्ट के डायरेक्टर ने कहा- एक साथ तीन देशों से सीरीज चुनौतीपूर्ण रहेगी, लेकिन यह काफी फायदेमंद होगी।

कोरोनावायरस के बीच तीन महीने बाद इंग्लैंड में इंटरनेशनल क्रिकेट की वापसी होने वाली है। यहां वेस्टइंडीज और इंग्लैंड के बीच तीन टेस्ट की सीरीज का पहला मैच 8 जुलाई को खेला जाएगा। इंग्लैंड एंड वेल्स क्रिकेट बोर्ड (ईसीबी) इसी सीजन में पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया और ऑयरलैंड से भी सीरीज खेलने की तैयारी कर रहा है।

ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड ने 13 मार्च को आखिरी इंटरनेशनल मैच खेला था। यह बगैर दर्शकों के हुआ था। इसके बाद कोरोना की वजह से लगभग पूरी दुनिया में क्रिकेट पर रोक लगा दी गई थी।

9 जून को इंग्लैंड पहुंचेगी विंडीज
वेस्टइंडीज टीम तीन टेस्ट की सीरीज के लिए 9 जून के इंग्लैंड पहुंचेगी। यहां सभी खिलाड़ियों को 14 दिन क्वारैंटाइन में रहना होगा। इसके बाद दोनों देशों के बीच 8, 16 और 24 जुलाई को तीन टेस्ट खेले जाएंगे। यह सभी मैच बगैर दर्शकों के सुरक्षित वातावरण में खेले जाएंगे।

एक समय पर तीनों सीरीज बेहद चुनौतीपूर्ण
ईसीबी के प्रोजेक्ट डायरेक्टर स्टीव एल्वर्दी ने पोडकास्ट के प्रोग्राम में कहा, ‘‘यह काफी मुश्किल और चुनौतीपूर्ण होने वाला है, लेकिन एक ही समय में तीनों सीरीज बहुत फायदेमंद रहेगी। इस बार हम जो करने की कोशिश कर रहे हैं, इससे पहले वह कभी नहीं हुआ है।’’ उन्होंने कहा कि वे पाकिस्तान, ऑस्ट्रेलिया और आयरलैंड तीनों से हर हफ्ते बात कर रहे हैं।

पाकिस्तान टीम इंग्लैंड में टेस्ट और टी-20 सीरीज खेलेगी
विंडीज के बाद पाकिस्तान को इंग्लैंड में 3 टेस्ट और 3 ही टी-20 की सीरीज खेलनी है। इंग्लैंड दौरे के लिए सभी खिलाड़ियों को चार्टर्ड प्लेन से लाया जाएगा। इसके लिए पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने 30 खिलाड़ियों को ट्रेनिंग की मंजूरी दे दी है। पाकिस्तान के मुख्य कोच और चयनकर्ता मिस्बाह उल हक के मुताबिक, इन 30 में से ही 25 खिलाड़ियों को इंग्लैंड दौरे पर ले जाया जाएगा।

टेस्ट सीरीज से कोरोना सब्स्टीट्यूट नियम लागू हो सकता है
वेस्टइंडीज टेस्ट सीरीज से कन्कशन की तरह कोरोना सब्स्टीट्यूट का नया नियम लागू हो सकता है। हाल ही में एलवर्थी ने कहा था, ‘‘हां, कोविड-19 सब्स्टीट्यूट को लेकर आईसीसी को हमने प्रस्ताव भेजा था, जिस पर चर्चा हो रही है। मुझे उम्मीद है कि इसे जल्द ही आईसीसी की मंजूरी मिल जाएगी। हालांकि, यह सिर्फ टेस्ट क्रिकेट में भी अमल में लाया जाएगा।’’

आईसीसी की गाइडलाइंस के साथ होगी सभी सीरीज
हाल ही में अनिल कुंबले की अध्यक्षता वाली क्रिकेट समिति ने कोरोना के कारण गेंद को चमकाने के लिए लार के प्रयोग पर प्रतिबंध लगाने की सिफारिश की थी। जिसे आईसीसी ने अपनी नई गाइडलाइंस में शामिल करते हुए सोशल डिस्टेंसिंग जैसे कई नियम बना दिए हैं। इसके मुताबिक, गेंद को चमकाने के लिए पसीने के इस्तेमाल की छूट दी गई है। इन्हीं गाइडलाइंस के साथ सभी सीरीज खेली जाएंंगी।