• वेस्टइंडीज के क्रिकेटर क्रिस गेल ने कहा- अश्वेत लोगों का जीवन भी दूसरों की जिंदगी की तरह ही कीमती है
  • अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के विरोध में क्रिस गेल, डेरेन सैमी समेत कई खिलाड़ी सामने आए

इंटरनेशन क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) ने नस्लवाद के खिलाफ वेस्टइंडीज के क्रिकेटर क्रिस गेल और डेरेन सैमी का साथ दिया है। आईसीसी ने कहा कि हर तरह के लोग क्रिकेट खेलते हैं और यही इसकी पहचान है। हाल ही में अमेरिका में पुलिस कस्टडी में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत हो गई थी। इसके बाद दुनियाभर से खेल जगत के लोग नस्लवाद के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं।

आईसीसी ने ट्वीट किया, ‘‘बगैर भिन्नता के क्रिकेट कुछ भी नहीं है। बगैर विविधताओं के आप एक पूरी तस्वीर नहीं बना सकते।’’ साथ ही आईसीसी ने इंग्लैंड टीम का वर्ल्ड कप 2019 के फाइनल का एक वीडियो क्लिप भी शेयर किया। इसमें इंग्लैंड की जीत के यादगार पल के साथ खेल में विविधता का संदेश दिया गया।

भिन्न-भिन्न खिलाड़ियों को साथ खिलाने वाली इंग्लैंड पहली टीम

इंग्लैंड टीम विविधताओं के लिए जानी जाती है। टीम में न्यूजीलैंड, दक्षिण अफ्रीका और दक्षिण एशियाई मूल के काफी खिलाड़ी हैं। इन सभी खिलाड़ियों के साथ खेलने वाली इंग्लैंड पहली टीम भी है। वनडे वर्ल्ड कप 2019 में कप्तानी करने वाले इयान मॉर्गन खुद आयरलैंड के मूल निवासी हैं।

भारतीय खिलाड़ी भी नस्लवाद का शिकार हुए

इससे पहले भारतीय बल्लेबाज अभिनव मुकुंद और पूर्व तेज गेंदबाज डोडा गणेश ने कहा था कि वे भी मैदान पर नस्लवाद का शिकार हो चुके हैं। गेल और सैमी भी कह चुके हैं कि फुटबॉल समेत सभी खेलों की तरह क्रिकेट में भी नस्लवाद फैला हुआ है। वे भी इससे पीड़ित हुए हैं।

आईसीसी और सभी क्रिकेट बोर्ड की आवाज सुनना चाहता हूं: सैमी
सैमी ने कहा था, ‘‘काले लोगों ने काफी लंबे समय संघर्ष किया है। क्या आप अपना समर्थन देकर इस बदलाव का हिस्सा होना चाहते हैं। आईसीसी और अन्य सभी क्रिकेट बोर्ड आप नहीं देख रहे हैं कि मेरे जैसे लोगों का क्या हाल हो रहा है?  क्या आप मेरे जैसे लोगों के सामाजिक न्याय के लिए नहीं बोलेंगे? यह सिर्फ अमेरिका के बारे में नहीं है। यह चुप रहने का समय नहीं है। मैं आपको सुनना चाहता हूं।’’

अश्वेत लोगों का जीवन मायने रखता है: गेल
गेल ने इंस्टाग्राम पर लिखा था, ‘‘अश्वेत लोगों की जिंदगी भी दूसरों के जीवन की तरह कीमती है। अश्वेत लोग मायने रखते हैं। नस्लभेदी भाड़ में जाएं। मैंने पूरी दुनिया घूमी है। इस दौरान कई नस्लभेदी बातें सुनी हैं, क्योंकि मैं अश्वेत हूं। विश्वास मानिए, यह लिस्ट बढ़ती चली जाएगी।’’

यह समाज पहले से ज्यादा बंटा हुआ है
उन्होंने कहा था, ‘‘नस्लभेद सिर्फ फुटबॉल में ही नहीं है, बल्कि क्रिकेट में भी है। यहां तक कि कई क्रिकेट टीमों के अंदर भी मुझे यह अहसास कराया गया कि मैं एक अश्वेत हूं।’’ वहीं, इंग्लैंड के फुटबॉलर मार्क्‍स रशफोर्ड और वहीं के क्लब मैनचेस्टर युनाइटेड ने भी फ्लॉयड की मौत के बाद कहा था कि यह समाज पहले से ज्यादा बंटा हुआ लगता है।

26 मई को फ्लॉयड को गिरफ्तार किया गया था
अमेरिका के मिनेपोलिस में 26 मई को धोखाधड़ी के एक मामले में फ्लॉयड को गिरफ्तार किया गया था। पूछताछ के दौरान एक पुलिस अफसर ने फ्लॉयड को सड़क पर ही गिरा दिया था और अपने घुटने से उसकी गर्दन को करीब 8 मिनट तक दबाए रखा। इस कारण उसकी मौत हो गई थी। इसका वीडियो भी वायरल हुआ था।

अंतिम संस्कार का खर्च उठाएंगे फ्लॉयड मैवीदर
पूर्व बॉक्सिंग चैम्पियन फ्लॉयड मैवीदर ने जॉर्ज फ्लॉयड के अंतिम संस्कार और उनका स्मारक बनाने का खर्च उठाने की पेशकश की है। इसे मृतक के परिवार ने स्वीकार भी कर लिया है। जॉर्ज फ्लॉयड का अंतिम संस्कार 9 जून को ह्यूस्टन में किया जाएगा।