• श्रीलंका के तेज गेंदबाज शेहान मदुशंका को ड्रग्स के साथ गिरफ्तार किया था, जिसे दो हफ्ते की न्यायिक हिरासत में भेजा
  • खेल मंत्री दुलास अलाहापेरुमा ने कहा- क्रिकेट में अनुशासन गिरे नहीं, इसके लिए स्कूल लेवल से ही ध्यान देना होगा.

श्रीलंका क्रिकेट पर एक महीने में दो बड़े दाग लगे हैं। पहले ड्रग्स के मामले में तेज गेंदबाज शेहान मदुशंका की गिरफ्तारी हुई थी। अब पूर्व तीन खिलाड़ियों पर मैच फिक्सिंग के आरोप लगे हैं। इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) की एंटी करप्शन यूनिट ने तीनों के खिलाफ जांच भी शुरू कर दी है।

इस पूरे मामले की पुष्टि बुधवार को श्रीलंका के खेल मंत्री दुलास अलाहापेरुमा ने की है। हालांकि, उन्होंने किसी खिलाड़ी का नाम उजागर नहीं किया है। दुलास ने कहा कि यह देखकर बहुत दुख होता है कि आज क्रिकेट में अनुशासन का स्तर काफी गिर गया है।

स्कूल स्तर पर ध्यान देना होगा
श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड (एसएलसी) ने कहा, ‘‘एसएलसी का मानना है कि खेल मंत्री ने जो कुछ भी कहा है वह तीन पूर्व खिलाड़ियों के खिलाफ आईसीसी की एंटी करप्शन यूनिट की जांच के बारे में था। इसमें मौजूदा टीम का कोई भी खिलाड़ी नहीं है।’’ वहीं, खेल मंत्री ने कहा, ‘‘क्रिकेट में अनुशासन गिरे नहीं, इसके लिए सरकार को स्कूल लेवल से ही ध्यान देना होगा। स्कूल क्वॉलिटी प्लेयर्स नहीं दे पा रहे हैं।’’

शेहान दो हफ्ते की न्यायिक हिरासत में
ड्रग्स के मामले में शेहान को 25 मई को ही गिरफ्तार किया गया था। वे लॉकडाउन के बीच कार से एक शहर से दूसरे शहर जा रहे थे। इसी दौरान चेकिंग में उनके पास से 2 ग्राम हेरोइन मिली थी। इसके बाद मजिस्ट्रेट ने उन्हें दो हफ्ते की न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

2018 में किया था डेब्यू
25 साल के मदुशंका ने जनवरी 2018 में बांग्लादेश के खिलाफ वनडे डेब्यू किया था। पहले ही मैच में उन्होंने हैट्रिक दर्ज की थी। इसी साल वो दो टी-20 मैच भी खेले। इसके बाद वो लगातार चोटों से परेशान रहे और इंटरनेशनल क्रिकेट नहीं खेल सके। श्रीलंका में 20 मार्च से कर्फ्यु है। सरकार मंगलवार से इसमें ढील देने जा रही है। लॉकडाउन तोड़ने के आरोप में 65 हजार लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है।