नई दिल्लीः टीम इंडिया के कप्तान के तौर पर विराट कोहली को एक सफल कप्तान माना जाता है, लेकिन जब बात आईपीएल की आती है तो कोहली को एक फ्लॉप कप्तान कहा जाता है। ये फर्क क्यों हैं और दोनों टीमों की कप्तानी करना कोहली के लिए अलग क्यों हैं इस बात का जवाब दिया है विराट कोहली की आईपीएल टीम के साथी खिलाड़ी पार्थिव पटेल ने। पटेल ने बताया कि कोहली जब भारतीय टीम की कप्तानी करते हैं तो वो आईपीएल टीम रॉयल चैलेंजर्स की कप्तानी करने की तुलना में ज्यादा आक्रामक रहते हैं।

हालांकि इस बात का भी फर्क पड़ता है कि आपके पास टीम में कैसे खिलाड़ी हैं, जब कोहली भारत के लिए कप्तानी करता है तो वह एक अलग ही कप्तान दिखता है, क्योंकि उसके पास टीम में जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी जैसे गेंदबाज हैं। इसलिए वह भारत के लिए हमेशा विकेट लेने के बारे में सोचते हैं। लेकिन जब वह आरसीबी के लिए कप्तानी करते हैं तो वह अपने खिलाड़ियों से कैसे अच्छा प्रदर्शन करवाए इस बारे में सोचा करते है।

भारत के लिए कप्तानी करते हुए कोहली ज्यादातर अग्रेसिव रहता है, लेकिन आरसीबी के लिए वह काफी डिफेंसिव हो जाता है। आईपीएल की बात करें तो विराट कोहली अपनी कप्तानी में अभी तक एक भी खिताब नहीं जीत पाए हैं। वहीं टीम इंडिया की बात करें तो कोहली अपनी कप्तानी में भारत के लिए भी कोई बड़ा खिताब नहीं जीत पाए हैं, लेकिन फिर भी उनकी गिनती भारत के सबसे सफल कप्तानों में होती है।

कोहली टेस्ट क्रिकेट में कामयाबी की नई इबारत लिख चुके हैं, वो लिमिटेड ओवर में भी काफी सफल कप्तान रहे हैं। कोहली की ही कप्तानी में भारत ने पहली बार ऑस्ट्रेलिया में टेस्ट सीरीज जीती थी। इसके अलावा उनकी कप्तानी में सालों तक भारतीय टीम आईसीसी रैंकिंग में पहले नंबर पर भी रही है।

कोहली की कप्तानी को लेकर पार्थिव पटेल का मानना है कि विराट कोहली एक अलग तरह के कप्तान हैं। वह टीम को हमेशा फ्रंट से लीड करते हैं। वह हमेशा आक्रामक रहते हैं। कोहली चाहते हैं कि टीम के सभी खिलाड़ी हर वक्त चार्ज रहे और अपने आप को पुश करते रहें। भले ही विराट कोहली का नाम भारत के सफल कप्तानों में शुमार हो, लेकिन उन्होंने अपनी कप्तानी में अभी तक कोई बड़ा खिताब नहीं जीता है।

हालांकि बाइलेटरल सीरीज़ में उनका प्रदर्शन शानदार रहा है, लेकिन जब बात आईसीसी टूर्नामेंट की बात आती है, तो कोहली की कप्तानी वाली टीम इंडिया पूरे टूर्नामेंट में शानदार प्रदर्शन करती है, लेकिन नॉक आउट मुकाबलों में कोहली की विराट सेना फ्लॉप साबित होती है। अब कोहली को इस जिंक्स को तोड़ते हुए अपने इस रिकॉर्ड को सुधरना ही होगा।