• डेरेन सैमी ने अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी पर आईपीएल में उनके साथ हुए नस्लीय भेदभाव का जिक्र किया
  • क्रिस गेल भी कह चुके हैं कि क्रिकेट में भी रंगभेद होता है और वे खुद इसका कई बार सामना कर चुके हैं
  • अमेरिका में 25 मई को अश्वेत नागरिक जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस अफसर द्वारा गर्दन दबाने से मौत हुई थी.

अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद क्रिकेट में भी नस्लीय भेदभाव के मामले सामने आ रहे हैं। ताजा विवाद आईपीएल से जुड़ा है। वेस्टइंडीज के पूर्व कप्तान डेरेन सैमी ने आईपीएल में रंगभेद का खुलासा किया है। सैमी ने आरोप लगाया है कि लीग में हैदराबाद फ्रेंचाइजी की तरफ से खेलते वक्त उन्होंने और श्रीलंकाई खिलाड़ी थिसारा परेरा ने नस्लीय टिप्पणी का सामना किया।

सैमी का कहना है कि उन्हें और परेरा को ‘कालू’ कहकर पुकारा जाता था, जिसका मतलब उन्हें अब समझ आया है। यह जानने के बाद से ही वे गुस्से में हैं।

पहले मुझे इसका मतलब नहीं पता था: सैमी

सैमी ने शनिवार को अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी पर लिखा, ‘‘मुझे अभी ‘कालू’ का मतलब पता चला। जब मैं आईपीएल में सनराइजर्स के लिए खेलता था तो मुझे और थिसारा परेरा को इसी नाम से बुलाते थे। मैं सोचता था कि इसका मतलब मजबूत घोड़ा होता है। लेकिन अब जाकर मुझे इसका मतलब पता चला।’’ हालांकि, इस पोस्ट में यह साफ नहीं है कि उन्हें इस नस्लीय शब्द से कौन पुकारता था। क्या साथी खिलाड़ी या फैन्स या कोई और।

सैमी अमेरिका में हो रहे प्रदर्शन के समर्थन में

सैमी अमेरिका में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद हो रहे प्रदर्शन का लगातार समर्थन कर रहे हैं। उन्होंने क्रिकेट जगत से ही नस्लभेद के खिलाफ आवाज उठाने की अपील की है। सैमी ने इसे लेकर ट्वीट किया था कि अगर अमेरिका में पुलिस अफसर द्वारा अश्वेत की गर्दन दबाने वाला वीडियो देखने के बाद भी क्रिकेट जगत रंगभेद की लड़ाई में सामने नहीं आता है तो वह भी इस समस्या का एक हिस्सा होगा।

उन्होंने आगे कहा कि रंगभेद सिर्फ अमेरिका तक सीमित नहीं है, बल्कि दुनिया में हर जगह अश्वेत लोग इसका रोज सामना कर रहे हैं।

मैंने भी कई बार नस्लभेदी बातें सुनीं: गेल

इससे पहले वेस्टइंडीज के बल्लेबाज क्रिस गेल ने भी क्रिकेट में नस्लभेद होने की बात कही थी। गेल ने इसे लेकर इंस्टाग्राम पर लिखा था, ‘‘अश्वेत लोगों की जिंदगी भी दूसरों के जीवन की तरह कीमती है। अश्वेत लोग मायने रखते हैं। नस्लभेदी भाड़ में जाएं। मैंने पूरी दुनिया घूमी है। इस दौरान कई नस्लभेदी बातें सुनी हैं, क्योंकि मैं अश्वेत हूं। विश्वास मानिए, यह लिस्ट बढ़ती चली जाएगी।’’

25 मई को फ्लॉयड को गिरफ्तार किया गया था
अमेरिका के मिनेपोलिस में 25 मई को धोखाधड़ी के एक मामले में फ्लॉयड को गिरफ्तार किया गया था। पूछताछ के दौरान एक पुलिस अफसर ने फ्लॉयड को सड़क पर ही गिरा दिया था और अपने घुटने से उसकी गर्दन को करीब 8 मिनट तक दबाए रखा। इस कारण उसकी मौत हो गई थी। इसका वीडियो भी वायरल हुआ था। इसके बाद से ही पूरे अमेरिका में प्रदर्शन हो रहे हैं। 40 से ज्यादा शहरों में कर्फ्यू तक लगाना पड़ा।