पुरुषों में होने वाले यौन रोगों में प्रीमेच्योर इजेकुलेशन (Premature Ejaculation Causes) यानी शीघ्रपतन को बोलचाल की भाषा में early discharge भी कहा जाता है. पुरुषों में यह समस्या काफी शर्मिंदगी और तनाव का कारण बनती है, जो कभी-कभी रिश्तों पर भी नकारात्मक प्रभाव डालती है. शीघ्रपतन की समस्या के पीछे का कारण हर व्यक्ति में अलग- अलग होता है. यह शारीरिक, मनोवैज्ञानिक या आनुवंशिक कारणों से भी हो सकता है. यह पुरुषों में होने वाली बहुत ही कॉमन प्रॉब्लम है. इसलिए आपको इस समस्या से परेशान होने की जरूरत नहीं है. क्योंकि इसका इलाज है और आप अपनी जीवनशैली में कुछ बदलाव करके स्थिति को सुधार भी सकते हैं.

जीवनशैली में परिवर्तन जैसे तनाव न लेना, मेडिटेशन, मनोवैज्ञानिक परामर्श और व्यायाम जैसे उपायों को अपनाकर आप लाभ प्राप्त कर सकते हैं. जिन लोगों में स्थिति गंभीर है, वह डॉक्टर से सलाह ले सकते हैं. ज्यादातर लोगों की यह समस्या इलाज के बाद सही हो जाती है. आइए प्रीमेच्योर इजेकुलेशन के लक्षण और उसके इलाज के बारे में आपको विस्तार से बताते हैं.

प्रीमेच्योर इजेकुलेशन क्या होता है?
डायग्नोस्टिक एंड स्टैस्टिकल मैनुअल ऑफ मेंटल डिसऑर्डर, फिफ्थ एडिशन के अनुसार यह वह स्थिति है, जिसमें योनि में प्रवेश के लगभग एक मिनट के भीतर ही लिंग स्खलित हो जाता है. चूंकि महिलाओं को चरमोत्कर्ष पर पहुंचने में अधिक समय लगता है, ऐसे में पुरुषों का इतना शीर्घ स्खलित होना साथी के लिए असंतोष का कारण बन सकता है. वैसे तो शीघ्रपतन किसी भी प्रकार की यौन गतिविधि के दौरान हो सकता है, लेकिन इसे केवल योनि संभोग के दौरान होने वाली समस्या के रूप में वर्गीकृत किया जाता है.शीघ्र पतन के प्रकार
लाइफलॉन्ग प्रीमेच्योर इजेकुलेशन : इस स्थिति में समस्या पहली बार संबंध बनाने के साथ ही शुरू हो जाती है. योनि में प्रवेश के एक मिनट के भीतर ही स्खलन हो जाता है. इससे दोनों साथियों को असंतुष्टि रहती है.

एक्वायर्ड प्रीमेच्योर इजेकुलेशन : शीघ्रपतन की इस स्थिति में पहले तो संभोग के दौरान कोई दिक्कत नहीं आ रही होती है, लेकिन यह समय के साथ विकसित होती जाती है.

सिचुएशनल प्रीमेच्योर इजेकुलेशन : इस स्थिति में शीघ्रपतन सिर्फ विशेष परिस्थिति या किसी विशेष साथी के साथ होता है.

शीघ्रपतन के कारण
वैसे तो समय से पहले होने वाले स्खलन का कोई सही कारण ज्ञात नहीं है. हालांकि, यह मनोवैज्ञानिक और शारीरिक दोनों ही कारणों पर निर्भर करता है.

मनोवैज्ञानिक कारण

    • डिप्रेशन.
    • समय से पहले स्खलन के बारे में चिंता करना.
    • हीन भावना, जिससे कारण आप संभोग की क्रिया को बहुत शीघ्र समाप्त करना चाहते हों.
    • चिंता

बायोलॉजिकल कारण

    • डोपामाइन – यह एक न्यूरोट्रांसमीटर है जो स्खलन को नियंत्रित करता है.
    • आनुवंशिकी – एक अध्ययन के अनुसार, शीघ्रपतन एक आनुवंशिक विकार भी हो सकता है.
    • सेरोटोनिन – मस्तिष्क में सेरोटोनिन केमिकल की मात्रा कम होने पर भी शीघ्रपतन हो सकता है.
    • मूत्रमार्ग या प्रोस्टेट में संक्रमण.
    • सर्जरी या कोई ऐसी चोट जिससे ​तंत्रिकाओं या संवेदी प्रणाली को कोई क्षति पहुंची हो.

प्रीमेच्योर इजेकुलेशन की रोकथाम

सभी पुरुष किसी न किसी समय पर प्रीमेच्योर इजेकुलेशन का अनुभव करते हैं. इसीलिए इससे बहुत ज्यादा चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है. कई मामलों में चिकित्सक के पास जाने की भी जरूरत नहीं होती है. वैसे तो अब तक कोई भी एक ऐसे कारण का पता नहीं चल सका है, जिसे प्रीमेच्योर इजेकुलेशन के लिए जिम्मेदार माना जा सके. ऐसे में विभिन्न उपचार के विकल्पों को प्रयोग में लाने के साथ डॉक्टर की सलाह लेकर इस समस्या का हल किया जा सकता है.

शीघ्रपतन का इलाज
शीघ्रपतन के इलाज के रूप में परामर्श, दवा, थेरपी आदि को प्रयोग में लाया जाता है.

काउंसिलिंग एंड सेक्स थेरेपी : काउंसिलिंग या सेक्स थेरेपी के दौरान काउंसलर को आपके यौन जीवन में आने वाली समस्याओं के बारे में खुलकर बताना होता है. इसी के आधार पर आपका परामर्शदाता आपको चिंता, तनाव दूर करने के तरीकों के बारे में बताता है. सेक्स थेरेपी की मदद से आप अपने पार्टनर के साथ संबंधों को वापस बेहतर बना सकते हैं.

दवाइयां : डॉक्टर आपको दवाइयां दे सकते हैं, जो आपके स्खलन के समय को बढ़ाने में मदद करती हैं. डॉक्टर आपके संपूर्ण स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए कुछ दवाइयां देते हैं. यहां विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है. आप अपने मन से या इंटरनेट से देखकर कोई दवाई न लें, इसके दुष्परिणाम हो सकते हैं. उन्हीं दवाईयों को प्रयोग में लाएं, जिन्हें आपके डॉक्टर ने बताया है.

व्यवहार तकनीक : कई लोगों के जीवनशैली और व्यवहार में साधारण परिवर्तन लाकर भी इलाज किया जा सकता है. आपकी स्थिति को देखते हुए डॉक्टर आपको कुछ तकनीक के बारे में बताएंगे, जिससे आप शीघ्र ही इस समस्या से छुटकारा पा सकेंगे.

व्यायाम : पेल्विक फ्लोर मसल्स के व्यायाम से शीघ्रपतन की समस्या से राहत मिल सकती है. मांसपेशियों में कोई समस्या को जानने के लिए आम तौर पर रुक-रुक कर पेशाब करने को कहा जाता है. इससे स्खलन को नियंत्रित करने वाली मांसपेशियां सक्रिय होती हैं.